आंवला (Indian gooseberry)

आंवला हजारों औषधीय गुणों से युक्त है ,यह अलग बात है कि इसके बारे में लोग नहीं जानते हैं|

  1. दस्त अत्यधिक पतली दस्त और पेट में मरोड़ होने पर काला नमक और सूखे आंवले का चूर्ण बना लें और और रोगी को आधा चम्मच चूर्ण दिन में तीन बार ठंडे जल के साथ दें|
  2. पथरी रोग में आंवला अत्यंत गुणकारी है जिसे पेट में पथरी की शिकायत हो वह आंवले के चूर्ण को मूली के साथ सेवन करें|
  3. पायरिया दांतो का खत्म रहने वाला पायरिया हो जाने पर मुख से तेज बदबू आती है श्वासों के साथ इस के वायरस वायुमंडल में उड़ते हैं और अतः जिस व्यक्ति को पायरिया हुआ हो उसके मुंह के निकट अपना मुख ना करें इस रोग से निजात पाने के लिए आंवले को आग में भूलकर चूर्ण बनाकर सेंधा नमक मिला लें तथा 2 से 3 बूंदे सरसों का तेल मिलाकर नियमित मंजन करें पायरिया रोग समाप्त हो जाएगा|
  4. कब्ज यदि कब्जियत की शिकायत है खट्टी डकारें आती है तो एक चम्मच पिसा हुआ आंवला रात में दूध के साथ प्रयोग करें कब्ज दूर हो जाएगी|
  5. पीलिया आज के युग में खतरनाक रोग बन चुका है यदि किसी व्यक्ति को यह रोग हो गया है तो तीन भाग ताजे आंवले के रस में एक भाग शहद मिलाकर सुबह दोपहर और शाम को सेवन करें शीघ्र ही लाभ होगा|
  6. बवासीर बवासीर रोग के लिए आंवला बहुत फायदेमंद है आंवले का चूर्ण दही के साथ इस्तेमाल करें|
Advertisements